ख़ुत्बात
 



ख़ुत्बा-10


आपके ख़ुत्बे का एक हिस्सा

(जिसका मक़सद ‘शैतान है या शैतान सिफ़त कोई गिरोह)


आगाह हो जाओ के ‘ौतान ने अपने गिरोह को जमा कर लिया है और अपने प्यादे व सवार समेट लिये हैं। लेकिन फिर भी मेरे साथ मेरी बसीरत है। न मैंने किसी को धोका दिया है और न वाके़अन धोका खाया है और ख़ुदा की क़सम मैं इनके लिये ऐसे हौज़ को छलकाऊंगा जिसका पानी निकालने वाला भी मैं ही हूंगा के यह न निकल सकेंगे और न पलट कर आ सकेंगे।